February 21, 2024

अमृत मिशन योजना के सफल होने में संदेह है

जगदलपुर / (By Upendra) जगदलपुर नगर निगम में पूरे 24 घंटे दिए जाने की गरज से एक योजना शुरू हुई थी जिसका नाम अमृत मिशन योजना है। इस योजना की शुरूआत 2015-16 में हुई थी। आज 2023 है और 2019 से इस योजना के बारे में यह ढंका बजाया जा रहा है कि अगले साल यह योजना पूरी हो जाएगी। यानि जगदलपुर वासियों को 24 घंटे पानी मिलने लगेगा। ये भी सच है कि इस योजना को पूरा किए जाने को लेकर तारीख पे तारीख मिल रही है मगर योजना अपने स्थान से हिली नहीं है। Youtube चैनल bastarsiyan से बात करते हुए पूर्व आयुक्त प्रेम कुमार पटेल  ने कहा था कि यह योजना नवम्बर 2023 तक पूरी हो जाएगी। वहीं वर्तमान निगम आयुक्त दिनेश नाग Bastar ki Awaz (बस्तर की आवाज ) से बातचीत में बताया कि मार्च 2023 तक पूरा हो जाने की उम्मीद है।

क्या है अड़चन

जानकारों के मुताबिक अमृत मिशन योजना की सफलता इंद्रावती नदी के जल प्रवाह पर निर्भर है । फिलहाल तो इंद्रावती स्वयं जल संकट से गुजर रही है, और इस एतिहासिक नदी को बचाने की जरूरत है। इस नदी में बरसात खत्म होने के बाद पानी की समस्या शुरू हो जाती है और जैसे-जैसे गर्मी बढ़ती जाती है यह नदी सूखती जाती है। इधर निगम का कहना है कि इस योजना की प्रगति के चलते 65 प्रतिषत पाइपलाइन का कम पूरा हो गया है 35 ही बचा है ।
कही ऐसा न हो कि पाईप लाइन बिछा कर ही निगम इस योजना की समाप्ति कर ले । ये भी सच है कि 2015 से पाईप लाईन बिछाने काम शुरू हुआ और इतने लम्बे अंतराल में केवल लेकिन 65 प्रतिशत ही पाइपलाइन बिछाया जा चुका है। पूर्व और वर्तमान आयुक्त दोनों ने ही मीडिया को ये कहा है कि ठेकेदार ने बीच में काम छोड़ दिया इसीलिए निगम लेट हो गया ।
इस वर्ष विधान सभा चुनाव भी होने को है और चुनावी वर्ष होने के कारण सरकार कोशिश करेगी की अमृत योजना शुरू हो जाए ताकि उसका आगामी चुनाव में लाभ मिल सके ।

जलआर्वधन योजना भी हो चुकी है असफल

ज्ञात हो कि इसके पहले भी भाजपा सरकार के समय में जलआवर्धन योजना का आगाज हुआ था वह भी जनता को 24 घंटे पानी दिए जाने की बात कहता था। इन तमाम दावों के वावजूद भी यह योजना ताश के पत्तों से महल की तरह गिर गई । जनता के पैसों का नुकसान हुआ सो अलग। इस पर मंथन किए बिना ही एक योजना फिर लाई गई जिसे अमृत योजना का नाम दिया गया। और हकीकत सामने है । साल-दर-साल जनता को कहा जा रहा है कि अगले साल यह योजना जरूर सफल होगी। इन तमाम बातों के पहले यह समझना जरूरी है कि इंद्रावती नदी को बचाया जाए । क्योंकि नदी में जल है तो अमृत योजना सफल है।

क्या है अमृत मिशन योजना ?

उसमें अमृत मिशन में तीन पार्ट था –

  • शहर को हरा भरा करना निगम के मुताबिक हो गया है
  • फिर तालाबों में जाने वाले गंदे पानी को साफ करके उसे वापस तालाबों में डालना -ये भी हो गया है बालिकोंटा का सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट इसी का उदाहरण है।
  • तीसरा चरण है जगदलपुर के लोगों को 24 घंटें पानी देना
  • उसी पर 2015 से काम चल रहा है। घरों में पानी वितरण करने के लिए पाईप लाईन बिछाए जा रहें हैं । आयुक्त दिनेश नाग के मुताबिक यह काम मार्च में पूरा हो जाएगा।

    उम्मीद पर दुनियां कायम है- हम इंतेजार करेंगें तेरा कयामत तक

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *